Skip to main content

ustad-chodumal-khan-sahab-ne-a

Ustad Chodumal Khan Sahab Ne Arz Kiya Hai Aayi Thi Meri Kabar Par Diya Jalaane Ke Liye, Gaur Kijiye, Aayi Thi Meri Kabar Par Diya Jalaane Ke Liye, Rakha Hua Tel Bhi Le Gayi, Suhagraat Manane Ke Liye

Popular posts from this blog

बचपन में मैं भी जब कोई गलती कर

बचपन में मैं भी जब कोई गलती कर देता था और पिटने के आसार नजर आने लगते थे तो तुरंत किताब खोल के बैठ जाता था! वो बात अलग है कि कुटाई फिर भी होती थी। - जामिया लाइब्रेरी कांड

"नंगी" तलवार हो या "नंगी" औरत दोनों से बचना चाहिए

"नंगी" तलवार हो या "नंगी" औरत दोनों से बचना चाहिए🗡👸🏻 क्योंकि "नंगी" तलवार आपका खून निकाल सकती है🗡 और "नंगी" औरत आपका पानी 💦निकाल सकती है..!! 😂😂😝🙊🙊😝😂😂